• Dalit Sahitya - Aandolan aur Chintan

भारतीय भाषाओं में दलित विमर्श की क्या स्थिति है? दलितों की मुक्ति का क्या रास्ता है? समता की लड़ाई में क्या बाधाएं हैं? दलित आंदोलन की दिशा-दशा कैसी है? दलित राजनीति बाबा साहेब अंबेडकर के सपनों के कितने करीब है? मार्क्सवाद दलितों के संघर्ष में कितना सहायक रहा और उससे क्या मतभेद रहे? शोषणकारी व्यवस्था के खिलाफ संघर्ष की अभिव्यक्ति को दलित साहित्य क्यों कहना चाहिए? दलित साहित्य किसे कहा जाए? पूंजीवादी व्यवस्था में दलितों की क्या स्थिति होगी? दलित आंदोलन में दलित महिलाओं के सवाल कहां हैं? ऐसे तमाम सवालों के जवाब आपको दलित चिंतकों की जुबानी इस किताब में मिलेंगे. हिंदी समेत मराठी, तमिल, तेलुगु, बांग्ला आदि भाषाओं में दलित साहित्य की मौजूदा स्थिति और उसकी विकास यात्रा का यह प्रतिनिधि संग्रह पाठकों के लिए काफी उपयोगी है.


Shareable Link : http://exzi.re/mnnptz

Printed Books
Language Hindi
Publication Year 2015
Author Bajrang Bihari Tiwari
Number of Pages 248

Write a review

Note: HTML is not translated!
    Bad           Good

Dalit Sahitya - Aandolan aur Chintan

  • Product Code: Dalit Literature
  • Availability: In Stock
  • INR200.00

  • Ex Tax: INR200.00

Tags: Aandolan, Chintan, Dalit, Sahitya, Indian, Literature,